और पढ़िए


कैसे लें हिस्सा


पहला चरण: यूजर्स के प्रस्ताव

प्रतियोगिता की शुरुआत के साथ इंटरनेट पर यूजर्स 14 भाषाओं में वेबसाइटों को नामांकित कर सकते हैं.

  • पाठक केवल इन 14 भाषाओं में वेबसाइट नामांकित कर सकते हैं: हिन्दी, अरबी, बंगाली, चीनी, जर्मन, अंग्रेजी, फ्रेंच, इंडोनेशियाई, फारसी, पुर्तगाली, रूसी, स्पेनिश, तुर्की और यूक्रेनी.
  • आप खुद को भी नामांकित कर सकते हैं.
  • वेबसाइट की बनावट ऐसी हो कि कोई भी उसे देख सके.
  • डॉयचे वेले के ब्लॉग या डॉयचे वेले कर्मचारियों के ब्लॉग को इस प्रतियोगिता में शामिल होने की इजाजत नहीं है
  • जूरी सदस्यों के प्रोजेक्ट और उनकी वेबसाइट इस प्रतियोगिता में शामिल नहीं हो सकती.
  • हम ऐसे प्रस्ताव स्वीकार नहीं करते, जो किसी की भावनाओं को आहत करते हों, जिनमें सांप्रदायिक भावनाओं को ठेस पहुंचती हो या महिलाओं को अपमानित किया जाता हो या जिनमें अश्लील वेबसाइटों के लिंक हों.
  • एक प्रतियोगी को एक बार नामांकित करना काफी है. उसे कई बार नामांकित करने से उसके जीतने की संभावना पर कोई असर नहीं पड़ता.

दूसरा चरण: जूरी का फैसला

जूरी सदस्यों को अपनी अपनी भाषाओं में नामांकित ब्लॉगरों की सूची भेजी जाती है. हर भाषा के लिए एक जूरी सदस्य होता है. यह सदस्य नामांकित ब्लॉगों का विश्लेषण करते हैं और अपनी भाषा की श्रेणियों के लिए पांच फाइनलिस्ट तय करते हैं.

इसके अलावा मिश्रित श्रेणियों के लिए भी वे अपनी अपनी भाषा के ब्लॉगों का नामांकन करते हैं. इस तरह से हर श्रेणी में 14 ब्लॉगर चुन जाते हैं जिनमें से विजेता तय किए जाते हैं.

जूरी सदस्य अपनी तरफ से भी ब्लॉगरों का नामांकन कर सकते हैं. अगर किसी भाषा की किसी श्रेणी में कोई ब्लॉग नामांकित नहीं होता और जूरी सदस्य भी किसी का नामांकन नहीं करता तो दूसरी भाषा के ब्लॉग को लाभ होता है.

बॉब्स टीम में डॉयचे वेले के विभागों से एक एक प्रत्रकार को शामिल किया जाता है. ये पत्रकार अपनी भाषा के जूरी सदस्य की मदद करते हैं, उनके सवालों के जवाब देते हैं और उन्हें सुझाव देते हैं. लेकिन फाइनलिस्ट तय करने का अंतिम फैसला जूरी सदस्यों का ही होता है.

तीसरा चरण: ऑनलाइन वोटिंग और जूरी की बैठक

ऑनलाइन वोटिंग के जरिए यूजर्स अपनी अपनी भाषाओं में पब्लिक चॉइस अवॉर्ड के लिए विजेता चुन सकते हैं.

  • वोटिंग तब शुरू होती है जब अंतरराष्ट्रीय जूरी सभी श्रेणियों में फाइनलिस्ट तय कर देती है.
  • एक श्रेणी, भाषा और नेटवर्क पर 24 घंटे के अंदर सिर्फ एक बार वोट किया जा सकता है.
  • आप खुद को भी वोट दे सकते हैं.
  • जनता द्वारा की गयी वोटिंग से 18 श्रेणियों में विजेता चुने जाते हैं. साथ ही जूरी चार संयुक्त श्रेणियों में विजेता चुनती है.

विजेताओं को तय करने के लिए जूरी सदस्य डॉयचे वेले के निमंत्रण पर बर्लिन आते हैं और वहां बैठक में हिस्सा लेते हैं. अगर जूरी सदस्य किसी वजह से नहीं आ पाते तो बॉब्स के पत्रकार कुछ समय के लिए उनकी जगह ले लेते हैं और जूरी सदस्य का काम करते हैं. जूरी केवल संयुक्त श्रेणी में विजेताओं को चुनती है. डॉयचे वेले का एक सदस्य बैठक की अध्यक्षता करता है. इस सदस्य को वोटिंग का अधिकार नहीं होता.

अंतिम फैसला केवल अंतरराष्ट्रीय जूरी सदस्यों का ही होता है. वे कई चरणों के मतदान के बाद बहुमत के आधार पर विजेता तय करते हैं. हर श्रेणी में हर जूरी सदस्य अपनी भाषा में नामांकित प्रतियोगियों को पेश करता है. सारे प्रतियोगियों के परिचय के बाद पहला मतदान होता है. सबसे ज्यादा वोट हासिल करने वाले तीन प्रतियोगियों पर बहस होती है और फिर वोटिंग की जाती है. सबसे ज्यादा वोट पाने वाले दो ब्लॉगरों पर फिर बात होती है और फिर तीसरे मतदान के बाद विजेता तय हो जाता है.

“फ्रीडम ऑफ स्पीच” अवॉर्ड का फैसला डॉयचे वेले के निदेशक मंडल द्वारा लिया जाएगा. सभी विजेताओं के नाम इस वेबसाइट पर घोषित किए जाएंगे.