और पढ़िए


अभिनंदन सेखरी

Abhinandanअभिनंदन सेखरी स्मॉल स्क्रीन और न्यूजलॉन्ड्री के सह संस्थापक हैं. 1995 से 1999 के बीच उन्होंने हिन्दी बुलेटिन आज तक के लिए काम किया. मीरा नायर की फिल्म मॉनसून वेडिंग में उन्होंने कैमरा असिस्टेंट का काम संभाला. 2004 से 2009 के बीच उन्होंने एनडीटीवी के व्यंगात्मक शो गुस्ताखी माफ और द ग्रेट इंडियन तमाशा की स्क्रिप्ट लिखी. इसके बाद 2006 में उन्होंने राइट टू इंफॉर्मेशन (आरटीआई) की मुहीम में भी शिरकत की. अभिनंदन भारत में वे पत्रकारिता के स्तर की खुल कर आलोचना करते रहे हैं.

ट्विटर: @AbhinandanSekhr


जॉर्जिया पॉपलवेल

georgia_1

लेखक, संपादक और प्रड्यूसर जॉर्जिया पॉपलवेल ट्रिनिडैड और टोबेगो से नाता रखती हैं. 1989 से वे कई कैरिबियाई टीवी चैनेलों में काम कर चुकी हैं और संस्कृति, संगीत, फिल्म और खेल के मुद्दों पर लिखती रही हैं. 2005 में उन्होंने कैरबियन इलाके के पहले पॉडकास्ट प्रोग्राम कैरिबियन फ्री रेडियो की स्थापना की.

वेबसाइटः Global Voices Online
ट्विटरः@georgiap


हू यॉन्ग

Hu Yong

हू यॉन्ग चीन की पेकिंग यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ जर्नलिज्म एंड कम्यूनिकेशन में प्रोफेसर हैं. उन्होंने पत्रकारिता पर 13 किताबें लिखी हैं. वे स्वयं पत्रकार रह चुके हैं और डिजिटल और सोशल मीडिया के क्षेत्र में नए नए प्रयास कर रहे हैं.

ब्लॉग: Cool Knowledge
ट्विटर: @huyong


एरकान साका

Erkan Sakaएरकान साका इस्तांबुल के बिलगी विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं. वे न्यू मीडिया क्लचर और साइबर एंथ्रोपोलॉजी पढ़ाते हैं. इस्तांबुल से बीए और एमए की डिग्री लेने के बाद वे अमेरिका गए, जहां राइस यूनिवर्सिटी से उन्होंने पीएचडी की. 2004 से वह राजनीतिक ब्लॉगिंग कर रहे हैं. वे एक सिटीजन जर्नलिज्म ट्रेनिंग प्रोग्राम के संचालक भी हैं और न्यू मीडिया के विषय पर एक टीवी शो की मेजबानी भी करते हैं.

ब्लॉगः Erkan’s Field Diary
ट्विटरः @sakaerka


अलीसा वहीद

Alissa 01अलीसा वहीद इंडोनेशिया में समुदायों के विकास और सामाजिक आंदोलनों पर काम करती हैं. मनौविज्ञान की पढ़ाई कर चुकीं वहीद 1990 से कई सामाजिक संगठनों में काम करती रही हैं. वह इंडोनेशिया के गुस्दूरियान नेटवर्क की संयोजक हैं. यह संस्था देश में धार्मिक सहनशीलता, लोकतांत्रिक विविधता और महिलाओं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए काम करती है. वहीद ऐसे कई प्रोजेक्ट का नेतृत्व करती हैं जो समाज में बदलाव की ओर काम कर रहे हैं.

ट्विटर: @AlissaWahid


ओकसाना रोमानियुक

Oksana Romaniukओकसाना रोमानियुक यूक्रेन में रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स की प्रतिनिधि हैं और कीव की गैर सरकारी संस्था इंस्टिट्यूट फॉर मास इन्फर्मेशन की प्रमुख हैं. अपने काम में वह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और सूचना के अधिकार पर ध्यान देती हैं. अलग अलग प्रोजेक्ट के तहत वे पत्रकारिता की गुणवत्ता और नागरिकों के सहयोग को बढ़ाने तथा डिजिटल सुरक्षा पर काम करती रही हैं.

फेसबुक: https://www.facebook.com/oksana.romaniuk.33


मौरिसिओ सांतोरो

mauricioमौरिसिओ सांतोरो एमनेस्टी इंटरनेशनल में मानवाधिकारों की रक्षा के लिए काम करते हैं. रियो दे जनेरो में वे इंटरनेशनल रिलेशंस के प्रोफेसर हैं. अपनी किताब “मॉडर्न डिक्टेटरशिप” समेत उनके कई लेख ब्राजील और दुनिया के कई देशों में छप चुके हैं. वे ट्विटर पर बेहद सक्रीय हैं और ऑनलाइन अखबार ब्राजील पोस्ट के लिए भी लिखते हैं.

ट्विटर: @msantoro1978
ब्लॉग: http://www.brasilpost.com.br/mauricio-santoro/


रफीदा बोन्या अहमद

USA-BANGLADESH/ASSASSINATIONरफीदा मुक्तो मोना नाम के ब्लॉग की संचालक हैं. उनके पति अभिजीत रॉय ने इस ब्लॉग पेज की शुरुआत की थी. फरवरी 2015 में धार्मिक कट्टरपंथियों के हाथों पति के मारे जाने के बाद रफीदा ने अभिजीत का मोर्चा संभाला. वह बांग्लादेश के अन्य ब्लॉगरों के साथ मिल कर अभिव्यक्ति की आजादी के लिए संघर्ष कर रही हैं.

ब्लॉग: https://blog.mukto-mona.com/author/bonna/
फेसबुक: https://www.facebook.com/bonya.ahmed


जूली ओवोनो

JulieOwonoजूली ओवोनो ग्लोबल वॉयसेस और फ्रांस24 में अफ्रीकी महिलाओं के अधिकारों पर लिखती हैं. वह गैर सरकारी संस्था इंटरनेट सांस फ्रंटियर्स में अफ्रीकी विभाग को संभालती हैं. यहां वे अफ्रीकी पत्रकारों, ब्लॉगरों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और सिटीजन जर्नलिस्टों की इंटरनेट में सुरक्षा के लिए काम करती हैं.

ट्विटर: @JulieOwono


गुलनाज एसफानदियारी

Golnazगुलनाज जाने माने ईरानी ब्लॉग पर्शियन लेटर्स की संपादक हैं और रेडियो फ्री यूरोप की वरिष्ठ पत्रकार भी. उनके लेख न्यूयॉर्क टाइम्स, वॉशिंगटन पोस्ट और फॉरन पॉलिसी जैसे अखबारों में छपते रहे हैं. उन्होंने फ्रीडम हाउस की फ्रीडम ऑफ द प्रेस रिपोर्ट तैयार करने में भी योगदान दिया है.

ट्विटर: @GEsfandiari


एलेक्सी कोवालेव

Kovalevएलेक्सी कोवालेव रूस में पत्रकार, अनुवादक और मीडिया रिसर्चर के रूप में सक्रिय हैं. उन्होंने गार्डियन और न्यूयॉर्क टाइम्स जैसे अंतरराष्ट्रीय अखबारों के साथ भी काम किया है. 2015 में उन्होंने नूडल रिमूवर नाम का प्रोजेक्ट शुरू किया, जिसका मकसद रूसी मीडिया का आकलन करना और समाचार को प्रचार से अलग करना है.

ट्विटर: @Alexey__Kovalev


डॉलोर्स रेग

Dolors_Reigडॉलोर्स रेग मनोवैज्ञानिक हैं और कई कंपनियों और यूनिवर्सिटियों में कोर्स देती हैं. वह शिक्षा, सोशल मीडिया, गेमिंग और ऑनलाइन ट्रेंड्स पर ध्यान देती हैं. उन्होंने इन मुद्दों पर दो किताबें भी लिखी हैं. डॉलोर्स रेग को कई बार द बॉब्स प्रतियोगिता के लिए नामांकित भी किया जा चुका है.

ब्लॉग: http://www.dreig.eu/caparazon/
ट्विटर: @dreig


मोना करीम

Mona Kareem

मोना करीम न्यूयॉर्क स्थित पत्रकार और कवियित्री हैं. उन्होंने अरबी भाषा में अपनी कविताओं के दो संग्रह प्रकाशित किए हैं. वे साहित्य में पीएचडी कर रही हैं और माइग्रेंट राइट्स नाम की वेबसाइट की संपादक हैं. यह वेबसाइट मध्य पूर्व में आप्रवासी मजदूरों की दशा के बारे में जानकारी देती है.

ब्लॉग: http://monakareem.blogspot.com
ट्विटर: @monakareem


काथारीना नोकुन

katharinaकाथारीना नागरिक अधिकार और ऑनलाइन मुद्दों पर कॉम्पैक्ट नाम का कैम्पैन चला रही हैं. वह राजनीति, अर्थव्यवस्था और समाज पर तकनीक में आ रही क्रांति के असर का अध्ययन करती हैं. 2013 में वह जर्मनी की पाइरेट पार्टी के लिए डाटा रिटेंशन पॉलिसी कोऑर्डिनेटर रह चुकी हैं.

ट्विटर: @kattascha
ब्लॉग: http://kattascha.de/
फेसबुक: https://www.facebook.com/kattascha/