और पढ़िए


रोहिणी लक्षणे

Rohini_Lakshaneरोहिणी लक्षणे सेंटर फॉर इंटरनेट एंड सोसाइटी में रिसर्चर हैं. वे अखबार और इंटरनेट में तकनीक से जुड़ी पत्रकारिता करती रही हैं. महिलाओं और पुरुषों के समान अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था इरोटिक्स इंडिया में वे संपादक रह चुकी हैं. इंटरनेट और तकनीक की मदद से वे लिंगभेद के खिलाफ आवाज उठाती रही हैं. रोहिणी लक्षणे एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं, एक ब्लॉगर हैं, विकिपीडिया की लेखक हैं और डिजिटल सिक्योरिटी ट्रेनर भी हैं.

वेबसाइटः रोहणी की वेबसाइट

ट्विटरः @aldebaran14


जॉर्जिया पॉपलवेल

georgia_1लेखक, संपादक और प्रड्यूसर जॉर्जिया पॉपलवेल ट्रिनिडैड और टोबेगो से नाता रखती हैं. 1989 से वे कई कैरिबियाई टीवी चैनेलों में काम कर चुकी हैं और संस्कृति, संगीत, फिल्म और खेल के मुद्दों पर लिखती रही हैं. 2005 में उन्होंने कैरबियन इलाके के पहले पॉडकास्ट प्रोग्राम कैरिबियन फ्री रेडियो की स्थापना की.

वेबसाइटः ग्लोबल वॉयसस में जॉर्जिया

ट्विटरः@georgiap


फाल्क श्टाइनर

फाल्क श्टाइनर डिजिटल उपकरणों के साथ बड़े हुए हैं और अब जर्मनी में रेडियो चैनल डॉयचलांडफुंक और डॉयचलांडराडियो कुल्टूअर के साथ काम करते हैं. बर्लिन स्थित फाल्क श्टाइनर की इंटरनेट में राजनीतिक मुद्दों में रूचि है. वे कई अखबारों और पत्रिकाओं के लिए सलाहकार के तौर पर काम कर चुके हैं और कई सम्मेलनों का आयोजन भी कर चुके हैं. 2010 में उन्होंने गैर सरकार संस्थान डिजिटल सोसाइटी की स्थापना की.

ब्लॉगः क्यूलश्रांकनोटीत्सेन

ट्विटरः@flueke


एरकान साका

sakaएरकान साका इस्तांबुल के बिलगी विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं. वे न्यू मीडिया क्लचर और साइबर एंथ्रोपोलॉजी पढ़ाते हैं. इस्तांबुल से बीए और एमए की डिग्री लेने के बाद वे अमेरिका गए, जहां राइस यूनिवर्सिटी से उन्होंने पीएचडी की. 2004 से वह राजनीतिक ब्लॉगिंग कर रहे हैं. वे एक सिटीजन जर्नलिज्म ट्रेनिंग प्रोग्राम के संचालक भी हैं और न्यू मीडिया के विषय पर एक टीवी शो की मेजबानी भी करते हैं.

ब्लॉगः एर्कान्स फील्ड डायरी

ट्विटरः @sakaerka


ओकसाना रोमानियुक

Oksana Romaniukओकसाना रोमानियुक यूक्रेन में रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स की प्रतिनिधि हैं और कीव की गैर सरकारी संस्था इंस्टिट्यूट फॉर मास इन्फर्मेशन की प्रमुख हैं. अपने काम में वह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और सूचना के अधिकार पर ध्यान देती हैं. अलग अलग प्रोजेक्ट के तहत वे पत्रकारिता की गुणवत्ता और नागरिकों के सहयोग को बढ़ाने तथा डिजिटल सुरक्षा पर काम करती रही हैं.

 


फ्लोरियान न्गिंबिस

FLORIANT NGUIMBISफ्लोरियान न्गिंबिस कैमरून से हैं और अफ्रीका के सबसे चर्चित ब्लॉगरों में से एक हैं. वह अपने देश में 30 साल से चल रही तानाशाह सरकार की विफल नीतियों के बारे लिखते हुए उनकी आलोचना करते हैं. उन्हें सोशल मीडिया, सांस्कृतिक एनिमेशन और पुस्तकालयों में दिलचस्पी है. वे कैमरून ब्लॉगर संघ के अध्यक्ष भी हैं, जो वहां तेज और सस्ते इंटरनेट के लिए काम कर रहा है.

ब्लॉग: कामेर कोंगोसा

ट्विटर: @ngimbis 


अलीसा वहीद

अलीAlissa 01सा वहीद इंडोनेशिया में समुदायों के विकास और सामाजिक आंदोलनों पर काम करती हैं. मनौविज्ञान की पढ़ाई कर चुकीं वहीद 1990 से कई सामाजिक संगठनों में काम करती रही हैं. वह इंडोनेशिया के गुस्दूरियान नेटवर्क की संयोजक हैं. यह संस्था देश में धार्मिक सहनशीलता, लोकतांत्रिक विविधता और महिलाओं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए काम करती है. वहीद ऐसे कई प्रोजेक्ट का नेतृत्व करती हैं जो समाज में बदलाव की ओर काम कर रहे हैं.

ट्विटर: @AlissaWahid


रेनाटा आवीला

renata_avilaरेनाटा अवीला ग्वाटेमाला में मानवाधिकारों और बौद्धिक संपदा की सुरक्षा पर काम करती हैं. पेशे से वकील रेनाटा अवीला अपने देश में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और जानकारी की सुरक्षा और खास कर वहां आदिवासी अधिकारों के लिए काम करती हैं. उन्होंने नोबेल पुरस्कार से सम्मानित रिगोबेर्ता मेंचू के साथ भी काम किया है, जिन्हें ग्वाटेमाला में जनसंहार के खिलाफ आवाज उठाने के लिए जाना जाता है. अवीला क्रिएटिव कॉमंस की वरिष्ठ सदस्य हैं और वेब इंडेक्स साइंस काउंसिल की सदस्य. वे वेब वी वॉन्ट नाम की मुहिम का नेतृत्व करती हैं, जो इंटरनेट के माध्यम से मानवाधिकारों की रक्षा के लिए तत्पर है.

वेबसाइटः Renata Avila

ट्विटरः @avilarenata

 


तियेंची मार्टिन लियाओ

Liao Yiwu, chinesischer Literat und Dissidentतियेंची मार्टिन लियाओ तायवान से हैं. वह लेखक हैं और अखबारों के लिए लिखती हैं. कई सालों से वह बोखुम विश्वविद्यालय में  चीनी साहित्य के अनुवाद पर काम कर रही थीं. इसके बाद उन्होंने अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन डीसी में एक ऑनलाइन पत्रिका के लिए काम किया और मानवाधिकारों में दिलचस्पी लेने लगीं. 2010 से वह कोलोन में रह रही हैं और कोलोन में ही विश्व कला अकादमी की सदस्य हैं.


शाहिदुल आलम

बांग्लादेश के जानेमाने फोटोग्राफर और सामाजिक कार्यकर्ता शाहीदुल आलम ने लंदन विश्वविद्यालय से केमिस्ट्री में पीएचडी हासिल की. लेकिन 1984 में बांग्लादेश लौटने के बाद से उन्होंने फोटोग्राफी को अपना जीवन समर्पित कर दिया. उन्हें अपने काम के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है. इनमें लंदन आर्ट काउंसिल की हारवे हैरिस ट्रोफी भी शामिल है. वे बांग्लादेश की फोटोग्राफिक सोसाइटी के अध्यक्ष रह चुके हैं और हारवर्ड, स्टैनफोर्ड, ऑक्सफोर्ड, और केम्ब्रिज जैसे विश्वविद्यालयों में लेक्चर दे चुके हैं. साथ ही वे वर्ल्ड प्रेस फोटो की अंतरराष्ट्रीय जूरी के सदस्य भी रह चुके हैं.

वेबसाइटः शाहिदुल आलम                  ट्विटरः  @shahidul

 


आले यूसुफ

youssef

ब्राजील के यूसुफ वहां के सबसे बड़े चैनल ग्लोबोन्यूज में मेजबान के तौर पर काम करते हैं. वह टीवी ग्लोबो की सीरीज एस्क्वेंता में संपादकीय पेश करते हैं और ट्रिप नाम की पत्रिका में लेख लिखते हैं. 1999 और 2000 में वे ब्राजीली न्याय मंत्री खोसे कार्लोस दियास के सलाहकार थे. 2005 में उन्होंने वेबसाइट ओवरमुंदो की शुरुआत की जिसमें ब्राजील से कोई भी लिख सकता है. 2007 में इस वेबसाइट को ऑस्ट्रिया के इलेक्ट्रॉनिक मेले में गोल्डन नीका से सम्मानित किया गया.

वेबसाइटः आउत्रा पोलीतिका

ट्विटरः  @AleYoussef


क्रिस्टियान मीर

Mihr_12012 से क्रिस्टियान मीर जर्मनी में रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स के प्रमुख है. वे इंटरनेट में सेंसर और निष्पक्षता पर काम करते हैं. इससे पहले उन्होंने अंतरराष्ट्रीय इंटरनेट और मीडिया नीति पर काम किया. साथ ही सूचना की स्वतंत्रता और यूरोपीय समाज पर यह काम कर चुके हैं.

वेबसाइटः रिपोर्ट्स वताउट बॉर्डर्स

ट्विटरः@cmihr


अलेना पोपोवा

अल्योना पत्रकार, Alyona_Popova_3ब्लॉगर, इंटरनेट बिजनेसवुमन और सामाजिक कार्यकर्ता हैं और इन्हें जनता की भागीदारी, सरकार में पारदर्शिता और राजनीति में खुलेपन में दिलचस्पी है. पोपोवा रूस में 2011 में निष्पक्ष चुनावों के लिए इसी नाम की संस्था से जुड़ी थीं जिसने 2011 और 2012 में रूस में चुनाव पर निगरानी रखी. 2012 में पोपोवा ने एक संस्थान की स्थापना की जो समाज के लिए अहम इंटरनेट कार्यक्रम चलाता है.

ब्लॉगः अलेना पोपोवा

ट्विटरः @alyonapopova

 


तारिख अम्र

Tarek Amrतारिख अम्र मिस्र के ब्लॉगर हैं और 2005 से अपना ब्लॉग लिख रहे हैं. 2007 में उन्होंने ग्लोबल वॉयसस के साथ काम करना शुरू किया और तब से ब्लॉगर और नागरिक पत्रकारों के साथ अपने देश और आसपास के देशों के हालात का विश्लेषण कर रहे हैं. तारिख सोशल मीडिया बैठकों में अकसर दिख जाते हैं. हाल ही में ट्यूनिशिया में उन्होंने तीसरे अरब ब्लॉगर बैठक में हिस्सा लिया. उन्हें तस्वीर लेने में, कंप्यूटर नेटवर्क और सॉफ्टवेयर में दिलचस्पी है.

ब्लॉग: केलमेटीन

ट्विटरः @gr33ndata


अरश अबदपुर

इनके ऑनलाइन फैंस इन्हें कमानगीर के नाम से जानते हैं. फारसी में इस शब्द का मतलब है तीरंदाज. ईरान के अरश अबदपुर 2004 से ब्लॉग जगत में अपनी पहचान बनाए हुए हैं. अब यह टोरंटो में रहते हैं और फारसी ब्लॉग्स पर अपना मत सामने रखते हैं. अंतरराष्ट्रीय मीडिया चैनलों पर अकसर अबदपुर अकसर अंतरराष्ट्रीय घटनाओं के बारे में अपनी राय बताते हैं. उनका ब्लॉग  फारसी के 20 सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले ब्लॉग में से है. अरश इलैक्ट्रिकल और कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुके हैं.

ब्लॉग: कमानगीर

ट्विटरः @kamangir