और पढ़िए


किसने जीता बॉब्स 2014


02-Bobs-2014_Congrats!_posting_600x240px 2

दो दिनों की बहस के बाद 15 देशों से आए जजों ने तय किया कि कौन से ब्लॉग विजेता होंगे. भारत से खबर लहरिया को डॉयचे वेले ग्लोबल मीडिया फॉरम पुरस्कार मिला है. आपकी वोटिंग के नतीजे भी आ चुके हैं. आपके पास ऑनलाइन वोटिंग के लिए चार हफ्ते थे और 154 नामांकित ब्लॉग्स में से आपने अपनी पसंद चुनी है. इस साल 70,000 से ज्यादा वोट डाले गए और इसके नतीजे आप हमारी वेबसाइट पर देख सकते हैं.

और पढ़ें

7 मई तक वोटिंग


Bobs-2014_Milestoneposting_VoteNow_600x240px

बॉब्स 2014 के लिए ऑनलाइन वोटिंग 7 मई तक की जा सकती है. इस साल भी आप तय कर सकते हैं कि कौन से ब्लॉग या ऑनलाइन मुहिम को यूजर इनाम मिलना चाहिए.

नो चीटिंग

अब तक की वोटिंग में कुछ वोटों को रद्द कर दिया गया है. अब से हम हर वोट की जांच करेंगे और देखेंगे कि क्या वह सही तरह से डाला गया है. वोट की मान्यता को टेस्ट करने के कुछ मिनटों बाद इसे वेबसाइट पर डालेंगे. वोटों की संख्या आप वेबसाइट पर देख सकते हैं. वोटिंग 24

घंटे में एक बार एक ब्लॉग के लिए की जा सकती है. बाकी जानकारी आपको नियमों पर क्लिक करके मिल जाएगी.

जूरी का फैसला

अंतरराष्ट्रीय जूरी छह मुख्य श्रेणियों में ब्लॉग और ऑनलाइन मुहिम के विजेता चुनेगी. यह प्रक्रिया वोटिंग से अलग होती है और मई में हमारे जज तय करेंगे कि किस भाषा के किस ब्लॉग को वह इनाम देना चाहते हैं.

जूरी इनाम जीतने वाले ब्लॉगरों को 30 जून से 2 जुलाई तक डॉयचे वेले ग्लोबल मीडिया फोरम के लिए बॉन बुलाया जाएगा.

आप सब को ऑल द बेस्ट!

बॉब्स की वोटिंग शुरू!


अब आपकी बारी है. हमारी अंतरराष्ट्रीय जूरी ने बॉब्स के दसवें संस्करण के लिए 154 ब्लॉग नामांकित किए हैं. 14 भाषाओं के ब्लॉगरों के लिए अब आप वोट कर सकते हैं. वोटिंग 7 मई तक चलेगी.

हम खास तौर से अपने जजों का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं. उनकी मदद के बिना इतने सारे ब्लॉग्स और ऑनलाइन अभियानों को छांटना हमारे बस की बात नहीं थी. नामांकन तो फरवरी में ही शुरू हो गए थे और हमारे पास 3,000 वेबसाइटों के सुझाव आए. इनमें कई प्रोजेक्ट बेहद दिलचस्प, रचनात्मक और क्रांतिकारी थे. जाहिर है कि इन शानदार कोशिशों के बीच से कुछ ब्लॉग को नामांकित करने में जूरी सदस्यों को काफी दिक्कत हुई.
वुल वॉर वन के बारे में सुना है कभी?
वर्ल्ड वार वन यानी पहले विश्व युद्ध के बारे में तो सब जानते हैं लेकिन इस साल, पहले विश्वयुद्ध को सौ साल हो रहे हैं और फ्रांस की एक ब्लॉगर पहले विश्व युद्ध की बुनाई करके दिखाना चाहती हैं. अपनी प्रदर्शनी का नाम उन्होंने वुल वॉर वन रखा है. इनके प्रोजेक्ट का नाम है, डेली मेल और यह ब्लॉग सबसे रचनात्मक श्रेणी के लिए नामांकित किया गया है. इसके अलावा स्नोडेन के करीबी रिपोर्टर ग्लेन ग्रीनवाल्ड की मुहिम को भी नामांकित किया गया है जिसके जरिए वह ब्राजील में स्नोडेन को शरण दिलाने के लिए समर्थन जुटा रहे हैं.
इसके अलावा लैंटर्न नाम की वेबसाइट को भी जजों ने खूब पसंद किया है. इसमें यूजर दुनिया भर में फैले कुछ खास लोगों का नेटवर्क बना सकते हैं और अगर किसी देश में कोई वेबसाइट ब्लॉक हो जाए, तो लैंटर्न के जरिए विदेश में अपने दोस्त के कंप्यूटर से वेबसाइट को देखा जा सकता है.
वोटिंग के आसान से नियम
वोटिंग में अपने पसंदीदा ब्लॉगर को जिताने के लिए आप 24 घंटों में एक बार एक श्रेणी में वोट कर सकते हैं. सबसे ज्यादा वोटों वाला ब्लॉग या वेबसाइट को “जनता की पसंद” घोषित किया जाएगा. वोटिंग के लिए बिलकुल नामांकन की ही तरह आप फेसबुक, ट्विटर या डीडब्ल्यू पर अपना अकाउंट बनाकर वोट कर सकते हैं. अगर और जानकारी चाहिए तो इसके बारे में जानकारी नियम वाले पेज पर पढ़ी जा सकती है.
7 मई को हम आपको बताएंगे कि कौनसी श्रेणी में कौनसी वेबसाइट जीती. जूरी सदस्य जिन ब्लॉगरों को चुनेंगे, वह आएंगे जून में जर्मनी और डॉयचे वेले बॉन में पुरस्कार समारोह में हिस्सा लेंगे. जनता की पसंद से जीतने वाले ब्लॉगरों को हम सर्टिफिकेट और बैज भेजेंगे जो आप अपनी वेबसाइट पर लगा सकते हैं.
सारे नामांकित ब्लॉगों और वेबसाइटों को हमारा ऑल द बेस्ट!

2 अप्रैल को वोटिंग


Bobs-2014_Milestoneposting_StayTuned_600x240px

बॉब्स 2014 के लिए आए सभी नामांकनों के लिए हम आपको धन्यवाद देते हैं. इस साल में हमें 3000 से ज्यादा नामांकन मिले.

आगे क्या होगा

आने वाले हफ्तों में हमारी अंतरराष्ट्रीय जूरी को काफी मेहनत करनी होगी. पहले नामांकित ब्लॉग्स और प्रोजेक्ट देखे जाएंगे और फिर सभी श्रेणियों के लिए ब्लॉग्स फाइनल किए जाएंगे यानि तय हो जाएंगे वो ब्लॉग्स जो फाइनल सूची में होंगे.

फिर होगी वोटिंग

दो अप्रैल 2014 से आप सभी भाषाओं के, सभी उम्मीदवारों और श्रेणियों को देख सकेंगे. हिन्दी के अलावा अन्य भाषाओं में भी शानदार प्रोजेक्ट और ब्लॉग्स होते हैं. अप्रैल से आप इन्हें देख सकेंगे. चयनित सभी ब्लॉग्स के बारे में वेबसाइट हिन्दी में भी बताया जाएगा.

जूरी पुरस्कार

बर्लिन में चार और पांच मई दे दिन जूरी विजेताओं का चयन करेगी. जूरी पुरस्कार कुल छह श्रेणियों के लिए चुने जाएंगे जिसमें प्रतियोगिता बॉब्स में चुने गए सभी भाषाओं के ब्लॉग्स के बीच होगी. दो दिनों तक जूरी बहस करेगी कि कौन सा ब्लॉग सबसे अच्छा और श्रेणी में बेहतरीन है. इसके बाद बहुमत के आधार पर फैसला किया जाता है.

तो तैयार रहिए दो अप्रैल से अपना वोट देने के लिए. हिन्दी में अपने चयनित पसंदीदा ब्लॉग को आप वोटिंग के लिए जरिए बना सकते हैं विजेता.